दिल्ली सरकार ने किया 100 परिवारों को बेघर : चौ0 अनिल कुमार


नई दिल्ली, 29 अक्टूबर, 2020 - दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार पर देवली विधानसभा में बांध रोड़ शनि बाजार, संगम विहार में 100 ज्यादा मकानों को असंवेदनशील और अमानवीय तरीके से तोड़ने का आरोप लगाया, जबकि यह लोग यहां लगभग 40 वर्षों से रह रहे थे। चौ0 अनिल कुमार ने प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया और दुखी लोगों को आश्वासन दिया कि कांग्रेस पार्टी आपके न्याय और अधिकारों के हक की लड़ाई लड़ेगी। उन्होंने कहा कि यह कार्रवाही मुख्यमंत्री अरविन्द के उस वायदे की पोल खोलती कि गरीबों को पक्का मकान बना देंगे जबकि इनकी सरकार ने 40 साल पुराने पक्के मकानों को तोड़ रही है। चौ0 अनिल कुमार ने मांग की कि प्रभावितों को अरविन्द सरकार तुरंत राहत प्रदान करते हुए मुआवजा दे और इनके मकान पुनः बनवा कर दे।


चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली के उपराज्यपाल महोदय से शीघ्र ही मुलाकात का समय मांगा गया है जिससे कि यहां के निवासियों के तानाशाही पूर्ण तरीके से मकान तोड़े गए, उनको न्याय मिल सके। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अवैध तरीके से बिना कोई कोर्ट के आदेश पर तोड़फोड़ की कार्यवाही केवल क्षेत्रीय विधायक प्रकाश जरवाल की शिकायत पर की गई है।


चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविन्द, जिन्होंने गरीबों से वोट मांगने के लिए बड़े-बड़े वायदे किए थे, और सत्ता में आने के बाद गरीबों को निशाना बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब गरीब लोग, मकान तोड़े जाने के बाद मुख्यमंत्री से उनके आवास पर मिलने की कोशिश की तो वहां उनसे मिलने से इंकार कर दिया गया और उन्हें भगा दिया। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि वहां भाजपा के सांसद, मेयर, निगम पार्षदों ने भी यहां के लोगों के दुख बाटने नही पहुॅचे। भाजपा नेता केवल हिन्दु मुस्लिम दंगे करवाने में ही रुचि रखते है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव से पूर्व कच्ची कालोनियों को पक्का करने की घोषणा की थी वह भी झूठी साबित हो रही है।


चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि स्थानीय लोगों के अनुसार जरवाल वही विधायक है जो घूंस लेकर इसी क्षेत्र में पानी के लिए बोरिंग करवाई। उन्होंने कहा कि तोड़े गए मकानों एक घर में शादी का समारोह था और एक अन्य तोड़े गए घर में दो बच्चे तेज बुखार से पीड़ित थे, जो राजधानी में कोविड-19 महामारी तेज प्रसार के दौरान खुले में रहने को मजबूर है। उन्होंने कहा कि अरविन्द सरकार कोरोना महामारी के संकट में गरीब लोगों को प्रताड़ित कर रही है। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि जरवाल वही विधायक है जो घूंस की लगातार मांग के चलते टैंकर मालिक की मौत के लिए जिम्मेदार है, जबकि टैंकर मालिक अधिकृत पानी आपूर्तिकर्ता थे।


चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली कांग्रेस गरीब लोगों की जिंदगी से खेलने की किसी को इजाजत नही देगी, कांग्रेस ने हमेशा जे.जे. कलस्टर और अनाधिकृत कालोनियों में रहने वालों के अधिकारों के लिए लड़ती रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की याचिका के कारण ही सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में रेलवे पटरियों के नजदीक बसे जे.जे. कलस्टरों को उजाड़ने पर रोक लगी थी।


चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि जब कांग्रेस की सरकार दिल्ली में थी, तब झुग्गी झौपड़ी कालोनियों के लिए इन-सेतू योजना बनाई गई थी जिसके द्वारा प्रभावित लोगों वैकल्पिक आवास उपलब्ध कराए बिना उजाड़ा नही जाएगा अथवा जहां झुग्गी है उसी स्थान पर मकान बनाकर दिए जाऐंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अरविन्द कोरोना वायरस के डर से लोगों से मिले बिना घर पर बैठे रहे और राजधानी में जब कोविड-19 महामारी के मामले अधिक बढ़ रहे है, ऐसे में गरीबों लोगों के घरों को तोड़कर उन्हें उजाड़ा जा रहा है। उन्होंने कहा कि कंटेनमेट जोन 3000 से अधिक हो गए और कोरोना से मृत्यु के मामले बढ़ने के साथ अरविन्द सरकार गरीबों पर प्रहार करके उनको धरातल में धकेल रही है।


चौ0 अनिल कुमार ने पुनः पुष्टि की कि कांग्रेस अरविन्द सरकार ओर मोदी सरकार के गरीबों के प्रति सौतेले व्यवहार के खिलाफ अपनी लड़ाई को जारी रखेगी। उन्होंने आश्चर्य की बात है कि भ्रष्ट आम आदमी पार्टी के विधायक पर संगम विहार में गरीब लोगों के घरों को तोड़े जाने की आवश्यकता और तत्परता क्यों थी, जबकि प्रकाश जरवाल जैसे विधायक जो पहले से ही दिल्ली के मुख्य सचिव से मुख्यमंत्री आवास पर मारपीट और और टैंकर मालिक की मौत के लिए जिम्मेदार है।