दिल्ली में हिंसक घटनाओं पर अरविन्द केजरीवाल चुप क्यों : चौ० अनिल



नई दिल्ली, 28 जनवरी, 20201 - दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि कड़कड़ती ठंड में पिछले 64 दिनों से तीन काले कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर देश भर के किसान दिल्ली की सीमाओं बैठे है, और अभी तक 178 किसानों जान जा चुकी है। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि 26 जनवरी, 2021 ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई घटनाओं की जिम्मेदारी लेते हुए गृहमंत्री अमित शाह तुरंत इस्तीफा दें, क्योंकि गणतंत्र दिवस पर सुरक्षा की इतनी सख्त इंतजाम होने के बावजूद भी किसानों के साथ उपद्रवी अराजकता फैलाने वाले लोगां ने लाल किले पर झंडा कैसे फहराया। उन्होंने कहा कि लाल किले की सुरक्षा की जिम्मेदारी सरकार की है। प्रदेश कार्यालय राजीव भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में चौ0 अनिल कुमार के साथ पूर्व विधायक अनिल भारद्वाज, श्री अमरीश गौतम और प्रदेश महिला अध्यक्ष अमृता धवन मौजूद थी।

संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए चौ0 अनिल कुमार ने कहा 73 साल के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि ऐतिहासिक लालकिले तक गणतंत्र दिवस की परेड़ नही निकाली गई। उन्हांने कहा कि किसान गांधी जी के रास्ते पर अपनी टै्रक्टर यात्रा को निकालने की जब घोषणा कर चुके थे, परंतु कुछ अराजकता भरे उपद्रवियों ने किसानों के बीच आकर हिंसा का हिस्सा बनें ऐतिहासिक धरोहर लाल किले को नुकसान पहुॅचाया। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि पुलिस को संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं पर एफआईआर दर्ज करने की बजाए उपद्रवियांं पर मुकद्मा दर्ज करना चाहिए। उन्हांने कहा कि दीप सिंधू और लक्खा सिधाना जैसे लोगों की पहचान होने के बावजूद अभी तक गिरफ्तार क्यों नही किया गया?  उन्होंने कहा कि उपद्रवियों का अभी तक गिरफ्तार नही किया जाना भाजपा और आम आदमी पार्टी की मिलीभगत और गठजोड़ को साबित होता है। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि 37 किसान नेताओं पर मुकद्मा और 200 से अधिक किसानों की गिरफ्तारी किया गया जबकि 300 से अधिक पुलिस कर्मियों का जख्मी होना दुर्भाग्यपूर्ण है।